Dil hai hamara…

तेरी तिज़ोरी का ? सोना नहीं,
दिल ? है हमारा खिलौना नहीं,
कैसे खरीदेगी?तुम इसे प्यार में,
बिकते नहीं ये दिल बाज़ार ? में..!!

Read More

Dost purane mere…

अब ना मैं हूँ, ना बाकी हैं ज़माने मेरे​,
फिर भी मशहूर हैं शहरों में फ़साने मेरे​,
ज़िन्दगी है तो नए ज़ख्म भी लग जाएंगे​,
अब भी बाकी हैं कई दोस्त पुराने मेरे..!!

– राहत इंदौरी

Read More

Hifazat…

जो तीर भी आता वो खाली नहीं जाता,
मायूस मेरे दिल से सवाली नहीं जाता,
काँटे ही किया करते हैं फूलों की हिफाज़त,
फूलों को बचाने कोई माली नहीं जाता..!!

Read More