Nazre karam mujh pe itna na kar…

नज़रे करम मुझ पर इतना न कर,
की तेरी मोहब्बत के लिए बागी हो जाऊं,
मुझे इतना न पिला इश्क़-ए-जाम की,
मैं इश्क़ के ज़हर का आदि हो जाऊं।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *