Love shayari, Tere ehsaas ki khushaboo


खुशबू फूल से होती है, चमन का नाम होता है,
निगाहें कत्ल करती है, हुस्न बदनाम होता है।

Khushboo phool se hoti hai,
chaman ka naam hota hai,
Nigaahe katl karti hai,
husn badanaam hota hai.

वो चाय ही क्या जिसमें उबाल ना हो,
और वो इश्क़ ही क्या जिसमें बवाल ना हो।

Wo chaay hi kya jisame ubaal na ho,
aur wo ishq hi kya jisme bawaal na ho.

तेरे अहसास की खुशबू रग रग में समाई है,
अब तू ही बता इसकी क्या दवाई है।

Tere ehsaas ki khushaboo rag rag me samayi hai,
ab tu hi bata iski kya dawai hai.

हम जान लूटा देंगे अपनी जान के लिए,
तुम कीमत तो बताओ अपनी एक मुस्कान के लिए।

Hum jaan luta denge apani jaan ke liye,
tum kimat to batao apani ek muskaan ke liye.

जितने का ये हुनर भी आजमाना चाहिए,
जंग अपनों से हो तो हार जाना चाहिए।

Jitane ka ye hunar bhi aajmaana chahiye,
jang apano se ho to haar jaana chahiye.

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>