Love shayari, Ehsaas hamaari chaahat ka


तुम लाख छुपाओ सीने में,
अहसास हमारी चाहत का,
दिल जब भी तुम्हारा धड़का है,
आवाज़ यहाँ तक आई है.

Tum laakh chhupao seene me,
Ehasaas hamaari chaahat ka,
dil jab bhi tumhaara dhadaka hai,
aawaz yaha tak aayi hai.

जब खामोश आंखों से बात होती हैं,
सुनो! ऐसे ही मोहब्बत कि शुरुआत होती हैं,
उसी के खयालों में खोए रहते हैं,
पता नहीं.. कब दिन और कब रात होती हैं।

jab khaamosh aakhon se baat hoti hai,
suno ! aise hi mohabbat ki suruvaat hoti hai,
usi ki khayaalo me khoye rahate hain,
pata nahi.. kab din aur kab raat hoti hai.

हमें सीने से लगाकर हमारी सारी कसक दूर कर दो,
हम सिर्फ तुम्हारे हो जाएं हमें इतना मजबूर कर दो।

Hame seene se lagaakar hamaari saari kasak door kar do,
ham sirf tumhaare ho jaye hamen itana majaboor kar do.

मुस्कान का कोई मोल नहीं होता,
रिश्तों का कोई तोल नहीं होता,
लोग तो मिल जाते है हर रास्ते पर,
लेकिन हर कोई आपकी तरह अनमोल नहीं होता।

muskaan ka koi mol nahi hota,
rishton ka koi tol nahi hota,
log to mil jaate hai har raaste par,
lekin har koi aapaki tarah anamol nahi hota.

ये मोहब्बत का रिश्ता भी बड़ा अजीब है,
मीलों की हैं दूरियां, मगर फिर भी धड़कन करीब है।

ye mohabbat ka rishta bhee bada ajeeb hai,
meelo ke hai dooriyaan,
magar phir bhi dhadakan kareeb hai.

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>