Khuda kare unki har tamanna puri ho


तुम अंधेरों कि बात करते हो,
हम उजालों में खोने लगे हैं,
अब तक तो तन्हा थे,
पर शायद अब किसी के होने लगे हैं।

Tum andhero ki baat karate ho,
Ham ujaalo me khone lage hain
Ab tak to tanha the,
Par shaayad ab kisi ke hone lage hai.

एक जंग चल रही है मेरी, इश्क़ और इनकार में,
जाने कैसे जीतेंगे हम इस इकतरफा प्यार में।

Ek jang chal rahi hai meri,
Ishq aur inakaar me,
Jaane kaise jeetenge ham,
Is ikatarafa pyaar me.

जो तीर भी आता वो खाली नहीं जाता,
मायूस मेरे दिल से सवाली नहीं जाता,
काँटे ही किया करते हैं फूलों की हिफाज़त,
फूलों को बचाने कोई माली नहीं जाता।

Jo teer bhi aata wo khaali nahi jaata,
Maayus mere dil se sawaali nahi jaata,
Kaante hi kiya karate ha phoolon ki hifaazat,
Phulo ko bachaane koi maali nahi jaata.

नफ़रत की दुनिया में कोई है जो मेरी फिक्र करता है,
खुदा करे उनकी हर तमन्ना पूरी हो,
जो अपनी दुवाओं में मेरा जिक्र करता है।

Nafarat ki duniya me koi hai jo meri fikr karata hai,
Khuda kare unki har tamanna puri ho,
Jo apani duwaon me mera jikr karata hai.

गम ने हसने न दिया ज़माने ने रोने न दिया,
इस उलझन ने चैन से जीने न दिया,
थक के जब सितारों से पनाह ली,
तो तेरी याद ने सोने न दिया।

Gam ne hasane na diya zamaane ne rone na diya,
Is ulajhan ne chain se jine na diya,
Thak ke jab sitaaron se panaah lee
To teri yaad ne sone na diya.

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>