जुगनू कितना भी चमके…


जुगनू कितना भी चमके ? आफ़ताब नहीं होता,
बंद आंखों ? से जो देखे पूरा वो ख़्वाब नहीं होता,
अगर दुनियां की हर दौलत मां ? के क़दमों में रख दूं,
फिर भी उसकी लोरियों का हिसाब ? नहीं होता..!!

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes:

<a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>